Mothers day Special Poem - Poem for Mothers Day

मेरे पक्ष में माँ – Happy Mother’s Day

Happy Mothers Day - Mere Paksh Me Maa, Mothers day special

A special poem for your mother – Happy Mother’s Day

मेरे पक्ष में बस तू ही है, बेपक्ष ज़माना है,

ओह माँ, तूने मुझसे ज्यादा, मुझको जाना है ||

_*_

जन्नत-ऐ-अंश, जो तेरे चरणों की ये धूल है,

तुझे रुलाना और सताना, मेरा पाप है, मेरी भूल है ||

_*_

नाचीज़ सी इक हस्ति मैं, फिर भी तुम्हें अभिमान है,

विशालकाय इक ह्रदय-धारक, तुम सर्वशक्तिमान है ||

_*_

नादानियां हो जो भी मेरी, बस तू समझती है,

मुझे बचाने, सारे जग से, तू उलझती है ||

_*_

तेरे हाथों पे सर रख के, जब तेरे पास सोता हूँ,

सारे जग के मधुर सपने, मैं संजोता हूँ ||

_*_

पिज़्ज़ा, बर्गर में कहाँ जो स्वाद तेरे हाथों में है,

जहाँ चाशनी भी हार माने, वो मिठास तेरी बातों में है ||

_*_

तूने जतन किये है इतने, तेरा कर्ज कहा अदा होगा,

बेशुमार प्यार की इस दौलत का, अहसान मुझपे सदा होगा ||

Mothers day Special Poem - Poem for Mothers Day

Share this poem with your Mom, make her feel special. 

Share if it was Worth Reading:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)