Biased Media. fourth piller of constitution. News anchors.

न सर्वश्रेस्ट, न सर्वोतम

Biased Media. fourth piller of constitution. News anchors.

तुम न सर्वश्रेस्ट, न सर्वोतम,

तुम राग द्वेष  के पुरुषोत्तम |

तुम अंधकार के हो सूचक,

तुम दगाबाजी के हो पूरक ||

*

क्या जमीर का भीतर कक्ष नहीं?

क्या एक भी अंग निष्पक्ष नहीं?

जो पीड़ पराई समझे, तुम में

एक भी ऐसा शख्श नहीं ||

*

शीर्ष बुलन्दी  छूके तुम्हारे,

पैर जमीन को चूक गए |

तुम्हारी बनायी आंधी से हमारे,

आंख से आंसू सूख गये ||

*

जिस तख़्त पे शान से बैठे हो,

एक  झूठी आन के ऐंठे हो |

किस भ्रम में आके तुम खुद को हमारी,

नज़रों से गिराये बैठे हो ||

*

मैं कहता हूँ अरे सम्भलों जरा,

तुम दिल की भी कभी सुनलो जरा |

जो शाश्वत नहीं, है क्षणभंगुर,

ऐसी ताकत का न अहम् लो जरा.

Leave a comment

Your email address will not be published.

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)